Rainrays Profiles
 
English
   Pregnancy & Care | Submit Your Free Ads | Tours & Travel India

Home rainrays profile world Contact Us Online Free Marketing Aadhaar Card Online Free Marketing Pregnancy & Care Online Free Marketing Tour n Travel Free Ads with rainrays Festivals  Tourist Attraction India Pincode India  Tourist Attraction India Tourist Attraction India Jobs Recipes Jobs Select Babies Name

 
Custom Search
More Topics...
  Pregnancy tips and care  Pregnancy tips and care
 YouTube Videos YouTube Videos
  Hospitals & clinics in India Hospitals & clinics in India
  Hospitals & clinics in India World Travel Tips
 Kitchen Dictionary Kitchen Dictionary
 Recipes Recipes
 Personality Personality
 Institute/Colleges Institute/Colleges
 Indian Festivals Indian Festivals
 University University
 Restaurant Restaurant
 Districts List in India Districts List in India
 Districts Profile of India Districts Profile of India
 Hotels Hotels
 BSNL STD Codes (INDIA) BSNL STD Codes (INDIA)
 Love dating and Romance Love dating and Romance
 Baby name list Baby name list
 Jobs by location Jobs by location
 Jobs by Keyword Jobs by Keyword
 Jobs by Function Jobs by Function
 Jobs Part Time Jobs Part Time
 Shayari Shayari

Best Indian Tours
 Week End Tours  Week End Tours
 Wildlife tours Wildlife tours
 Honeymoon  Honeymoon Tours
 Religious Tours Religious Tours
 Religious Tours International Tours
 Religious Tours Indian Tours for Overseas
 

35 की उम्र के बाद प्रेग्नेंट होने के टिप्स

  Topic » Topic In Hindi » Pregnancy and Care » Womens Corner
Post By : Meeta At 2019-04-13

हम सभी जानते हैं कि धीरे-धीरे हमारे आसपास का वातावरण खराब होता जा रहा है हमारा खाना पीना भी खराब होता जा रहा है लाइफ़स्टाइल बहुत ज्यादा फास्ट हो गई है ऐसे में खाने पीने का ध्यान भी बहुत कम रहता है आज का युग मशीनी युग है जिसमें हमें अपने शरीर का संपूर्ण प्रयोग करने का अवसर ही नहीं मिलता जिससे शरीर की क्षमता भी कम होती जाती है, भ्रष्टाचार की जड़ें इतनी गहराई तक समा चुकी है की खाने पीने की चीजों में भी अत्यधिक मिलावट हो रही है जो कि हमारे लिए जानलेवा साबित होती है, इन सब कारणों से शरीर की क्षमता कम होती जा रही है और एक महिला जोकि 20 से लेकर 30 वर्ष तक की उम्र में बड़ी आसानी से मां बन सकती है उसे भी मां बनने में परेशानी हो रही है अब सवाल यह है आता है कि बड़ी उम्र में 35 वर्ष के बाद अगर महिला मां बनना चाहे तो उसे क्या करना होगा क्योंकि ३५ के बाद तो शरीर की छमता अपने आप ही कम होने लगती है तो बड़ी उम्र में माता बनने के लिए हमें किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए आइए चर्चा करते हैं

 

35 साल की उम्र के बाद मां बनना एक चुनौतीपूर्ण काम होता है। लेकिन जो लड़कियां देरी से शादी करती हैं या फिर कॅरियर के चक्कर में जल्दी उम्र में मां नहीं बन पाती हैं उनके लिए 35 के बाद मां बनने के लिए इस वीडियो में कुछ शानदार टिप्स है 

[प्रेगनेंसी केयर किट ] 
[ऐसे सुंदर पर्स बैग जो लड़कियों का दिल छू ले]

 

पॉजिटिविटी: बड़ी उम्र में मां बनना थोड़ा मुश्किल होता है तो ऐसे में थोड़ा नेगेटिविटी महिला के मन में आ जाती है कि वह मां बन पाएगी कि नहीं बन पाएगी तो सबसे बड़ी बात तो यह है कि उन्हें पॉजिटिव ही सोचना है और उन्हें अपनी क्षमताओं पर विश्वास करना है, उन्हें अपने आप पर पूर्ण विश्वास होना चाहिए कि वह मां बन सकती है

 

चिकित्सक की सलाह : 35 साल की उम्र के बाद गर्भवती होने में कई जटिलतायें आती हैं। अगर आप 53 साल की उम्र के बाद प्रेग्नेंट होना चाहती हैं तो चिकित्सक से सलाह लें और जरूरी टेस्ट करायें। इस उम्र में लापरवाही बरती गई तो गर्भपात होने की ज्यादा संभावना होती है और आवश्यकता पड़े तो अपनी काउंसलिंग करवानी चाहिए और साथ में अपने पार्टनर को भी काउंसलिंग शामिल करना चाहिए |

 

धूम्रपान छोड दें: अगर आप 35 की उम्र के बाद मां बनने के बारे में सोच रही है तो धूम्रपान करना बिल्कुल छोड़ दें और अपने पार्टनर को भी ऐसा करने को कहें। ऐसा न करने पर धुंए से आपकी ओवरी आदि पर बुरा असर पड़ता है

 

शराब छोड़ दे: अगर बड़ी उम्र में दंपत्ति माता पिता बनना चाह रहे हैं तो उन्हें शराब का सेवन छोड़ना होगा यह प्रजनन क्षमता ओं को कमजोर करता है इस शुक्राणु पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ता है

 

लाइफस्टाइल : इस उम्र प्रेग्नेंट होने से पहले अपने लाइफस्टाइल में बदलाव लाइए। नियमित व्यायाम और योगा कीजिए। हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाइए, दारू और सिगरेट को अलविदा कहिए। लेट नाइट पार्टियों में जाने से बचे, भरपूर नींद लीजिए अपने आप को तरोताजा रखिए।

 

वजन पर नियंत्रण रखें : अगर शरीर पर फैट अधिक होगा तो पीरियड्स में अनियमितता आ जाती है वह प्रेगनेंसी ठहरने में मुश्किल होती है. अगर इस समय आप माता बनने की इच्छा रखी है तो आपको अपना वजन कंट्रोल में लाना होगा | इससे हारमोन्स बैलेंस रहेंगे और आप आसानी से कन्सीव कर लेगी।

 

चाय कॉफी पर नियंत्रण : गर्भधारण की इच्छा रखने वाली माता बहनों को चाय कॉफी पीने पर नियंत्रण रखना होगा क्योंकि इसमें कैफीन पाया जाता है जो कि गर्भपात का कारण बन सकता है। 
अपने प्रजनन दिनों के बारे में जानें: बड़ी उम्र में जाकर प्रजनन क्षमता अपने आप ही कम हो जाती है तो ऐसी स्थिति में आपको अपने फर्टाइल डेज के संबंध में जानने की कोशिश करनी चाहिए जब प्रेगनेंसी होने के चांसेस सबसे ज्यादा होते हैं उन्हीं दिनों पर संबंध बनाने की कोशिश सबसे ज्यादा करें | पीरियड के 12वें से 16वां दिन ओवुलेशन का होता है। 

[हिंदी में किताब - गर्भावस्था का ध्यान कैसे रखें ] 
[इन बैग के बिना शॉपिंग का तो मजा ही नहीं है, देखो तो जरा] 

Cervical mucus को जांचें: अगर आपका Cervical mucus साफ है तो संकेत है कि आपकी प्रजनन क्षमता काफी अच्छी है और आप जल्द ही कन्सीव कर सकती हैं, क्योंकि स्पर्म इसकी सहायता से शीघ्र ही अंदर पहुंच सकता है।

 

पौष्टिक भोजन : आपको कुछ माह पहले से ही फास्ट फूड तला भुला खाना छोड़ना होगा आप को पौष्टिक भोजन लेना है इसके लिए आप डाइट एक्सपर्ट से सलाह ले सकते हैं. कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन आदि से भरपूर भोजन का सेवन करें। इससे आपकी हड्डियां मजबूत होगी और शरीर में ताकत आएगी।

 

आर्गेनिक फूड खाएं: कान्सेप्शन के दौरान आर्गेनिक फूड का सेवन करें, इससे आपके शरीर में पेस्टीसाइड आदि की मात्रा बहुत कम पहुंचेगी। प्रेगनेंसी को कैरी करने में उतनी ही आसानी होगी ।

 

शुगर और प्रॉसेस्ड फूड न लें: ऐसे भोजन का सेवन करना बंद कर दें जो मिलावटी हों, जिनमें ज्यादा चीनी हों और जिन्हे प्रॉसेस्ड किया गया हों, इससे प्रजनन क्षमता पर बुरा असर पड़ता है।

 

प्यार को बढ़ाएं : पति पत्नी को आपसी रिश्ते को थोड़ा और मजबूत करना होगा जितना हो सके साथ में टाइम बिताएं प्यार भरी बातें करें, एक दूसरे को समझने की कोशिश करें, प्यार करें

 

पार्टनर की हेल्थ का रखें ध्यान: 35 के बाद अगर आप मां बनने जा रही हैं तो ऐसा आपके पार्टनर के बगैर संभव नहीं है। इसलिए आपको अपने पार्टनर की हेल्थ का ध्यान भी रखना चाहिए।

 

औषधियों का प्रयोग कीजिए: इस उम्र में पीरयिड नियमित नही रहता है ऐसे में ओवुलेशन प्रक्रिया सही समय पर नही होती है। प्रेग्नेंट होने के लिए ओवुलेशन प्रक्रिया और इसकी तिथि के बारे में जानना जरूरी है। इसके लिए आप अन्य दवाओं की तुलना में जड़ी-बूटियों का प्रयोग कीजिए। ये आपको प्राकृतिक रूप से प्रेग्नेंट होने में मदद करेंगे। 

[गर्भवती महिलाओं के लिए कुर्ता और कुर्ती ] 
[ऐसे पर्स जिन्हें खरीदें बिना आपका मन नहीं मानेगा]

 

ओवलेशन किट का इस्तेमाल करें: 35 की उम्र के बाद मां बनने पर विचार कर रही हों, तो ओवलेशन किट के बारे में डॉक्टर से सलाह लें और इसका इस्तेमाल करें। इससे आपको सहायता मिलेगी।

 

अंडरगो रिक्वीसाइट टेस्ट: अगर आपको आपका डॉक्टर सलाह देता है तो आपको यह टेस्ट जरूर करवा ले क्योंकि यह आपकी प्रजनन क्षमता को जानने के लिए किया जाता है कि आपके शरीर में अंडे के बनने की क्षमता क्या है। आपकी कंसीव करने की परसेंटेज पता चल जाएगी

 

बॉडी टेंपरेचर : जब आप मां बनना चाहे तब आपको अपने बॉडी टेंपरेचर को जानना है क्योंकि ओवुलेशन पीरियड में महिला के बॉडी का टेंपरेचर थोड़ा बढ़ जाता है इस दौरान कंसीव करने की क्षमता महिला की बहुत ज्यादा होती है, अपने बॉडी टेंपरेचर पर नजर रखें

 

नियमित व्यायाम : अपने शरीर की गतिविधियों को नियमित करने के लिए शरीर की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए आपको नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए जिससे प्रेग्नेंट होने में सहायता मिलेगी

 

तनाव : तनाव प्रेगनेंसी की संभावनाओं को कम करता है इसलिए इस दौरान आपको तनाव रहित रहना है

 

प्रीनेटल विटामिन: डॉक्टर से सलाह लें और प्रीनेटल विटामिन का सेवन करें। इसकी शुरूआत शुरूआत चरण से ही कर दें, ताकि आपके शरीर में जिन पोषक तत्वों की कमी है, वो कमी आपके बच्चे के शरीर में न पहुंच पाएं।
अन्य स्वास्थ्य समस्याओं पर नियंत्रण: 35 की उम्र पर कई स्वास्थ्य समस्याएं जैसे- डायबटीज, ब्लड़ प्रेशर आदि हो सकती हैं, अगर ये सब हैं तो पहले डॉक्टर से सही तरीके से इनका इलाज करवाएं। योग करें, मेडीटेशन करें, दवाईयो लें, लेकिन सर्वप्रथम इन बीमारियों से छुटकारा पाएं। उसके बाद ही प्रेगनेंसी कंसीव करने की सोचें

 

डॉक्टर मीटिंग : बड़ी उम्र में कंसीव कर लेने के बाद डॉक्टर से रेगुलर मिलते रहना चाहिए चेकअप कराते रहना चाहिए

 

मछली खाएं पर ध्यान से: मछली में ओमेगा3 होता है जो शरीर को स्वस्थ बनाएं रखता है। इससे प्रजनन क्षमता भी दुरूस्त रहती है। कुछ मछलियों में मरकरी पाया जाता है जो कि प्रेगनेंसी के दौरान बहुत नुकसानदायक होता है तो आपको सुनिश्चित करना है कि आप ऐसी मछली ना खाएं इसमें मरकरी पाया जाता है

 

थॉयराइड चेक करवा लें: थायराइड की समस्या से गर्भ खंडित हो जाता है इसलिए मां बनने से पहले महिला को अपना थायराइड जरूर चक्कर आना चाहिए, उसके बाद डॉक्टर से सलाह लेने के बाद भी प्रेगनेंसी धारण करनी चाहिए

 

दांतों की सफाई: आपको जानकर आश्चर्य होगा कि साफ दांत और मुंह, प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है। इसलिए इस बात का विशेष ख्याल रखें।

 

[केवल इस तरह के जूते, चप्पल ही प्रेगनेंसी में पहने ] 

[लड़कियों की पसंदीदा है यह घड़ियां]

 

दवाइयों का सेवन : प्रेगनेंसी के दौरान किस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि हमें किसी भी प्रकार की छोटी से छोटी बीमारी के लिए अपने आप दवाई नहीं लेनी है उसके लिए हमेशा डॉक्टर से ही कंसल्ट कर के दवाई लेनी है

 

प्रीनेटल क्लास जाएं: मां बनने से पहले, प्रीनेटल क्लास ज्वाइन कर लें। इससे आपको समझ में आएगा कि आपको कैसे क्या करना है।

 

भारी काम ना करें : प्रेगनेंसीके दौरान ऐसा कोई भी कार्य नहीं करना है जिसकी वजह से पेट या पीठ पर प्रेशर करें | दोस्तों इस टॉपिक को लेकर हमने पहले भी वीडियोस बनाए हैं वह आपके काफी काम आएंगे प्लेलिस्ट प्रेगनेंसी में आपको वीडियो मिल जाएंगे

 

दानों का खुद से उपचार न करें: अगर गर्भवती होने के बाद कोई समस्या आएं तो खुद से हल न करें। छोटी से छोटी समस्या के लिए भी डॉक्टर से ही सम्पर्क करें। वरना आपके भ्रूण पर नकारात्मक असर पड़ सकता है।

 

उम्मीद न छोडें: 35 के बाद मां बनने की प्रक्रिया साधारण नहीं होती है, देर लग सकती है, ऐसे में उम्मीद न छोडें। प्रयास करें।

 

मेडीटेशन करें: अपने डॉक्टर से मेडीटेशन करने के बारे पूछ लें कि कब और कितनी देर करना चाहिए, ताकि आप मानसिक रूप से स्वस्थ रहें। यह आपको मानसिक रूप से मजबूत बनाएगा

 




ऐब्नॉर्मल पीरियड्स - अत्यंत पीड़ादायक पीरियड्स - डिसमेनोरिया

यह दो तरह का होता है. प्राइमरी डिसमेनोरिया और सेकंडरी डिसमेनोरिया. प्राइमरी डिसमेनोरिया गर्भाशय में प्रोस्टग्लैंडीन नामक केमिकल का स्तर अधिक होने के कारण होता है, जिससे ऐंठन, सिरदर्द, पीठदर्द, मितली, जी घबराना, डायरिया और क्रैम..

More...





Refer to Friend

  Rainryas information World
 

Share Info/View About Profile Or Any Comment

 
Your Name:*  
 
Comment:*  
 
 
 
Other Topic
Village in Barhaj Tehsil
Egg Peas Poriyal
Thiruvarur :: Anjalai Ammal Mahalingam Engineering College
District Budgam
Wood - Paper - Furniture jobs in India
 
Create Your Profile in Category » Womens Corner
 
 
 
 
 
Related Content..
 7381  ऐब्नॉर्मल पीरियड्स - अत्यंत पीड़ादायक पीरियड्स - डिसमेनोरिया
 7366  बिना प्रेगनेंसी के प्रेगनेंसी वाले लक्षण कब आते हैं
 7377  कैसे पहचाने पीरियड्स ऐब्नॉर्मल नहीं है
 7411  अगर गलती से लड़की प्रेग्नेंट हो गई तो यह उपाय करें
 7382  मासिक धर्म की किन स्थितियों में मिलें डॉक्टर से
 7378  एब्नार्मल पीरियड्स किसे कहते है, कारण
 7375  प्रेगनेंसी की कर रही है प्लानिंग तो अभी से खाना शुरू कर दें ये 7 चीजें
 7372  इन 21 लक्षणों से मिनटों में पता कीजिए कि आप प्रेग्नेंट है कि नहीं
 7412  प्रेगनेंसी से बचने के लिए क्या सावधानी रखें
 7380  ऐब्नॉर्मल पीरियड्स - हैवी पीरियड्स होना
 
Special Tours Type India
 Week End Tours  Week End Tours
 Wildlife tours Wildlife tours
 Honeymoon  Honeymoon Tours
 Religious Tours Religious Tours
 International Tours International Tours
 Tours for Overseas Indian Tours for Overseas
More on rainrays.com
Top Links : Contact us | About us | Privacy & Policy | Terms & Condition | Extract Email | Submit URL to Search Engine
Jobs : Jobs by Location | Part Time Jobs | Jobs by Function | Jobs by Keyword | Jobs Out of india | Jobs Search Engine
Other Links
    Girl baby Names | Boy baby Names | Love dating and Romance | University | Restaurants in India | Hotels in India | Hospitals & clinic | Pregnancy & Care
    Coaching Institute | Educational Institution | School/Colleges by Loaction | Recipes | Std Code | PHP | Products | Links | PHP Interview Question

Copyright © 2010 --- All Rights Reserved